Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024

 

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024 : नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम बात करेंगे मुख्यमंत्री पर्यटन उद्योग संबल योजना क्या है। मुख्यमंत्री पर्यटन उद्योग संबल योजना की शुरुआत केंद्र सरकार के माध्यम से इस योजना की शुरुआत की गई है इस योजना के अंतर्गत नागरिकों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए और साथ ही उनका जीवन शैली में सुधार हो सके इसके लिए राजस्थान सरकार द्वारा राज्य के छोटे एवं बड़े पर्यटक को पहले जैसे विकसित करने के लिए एक नई योजना की शुरुआत की गई है जिसके अंतर्गत मुख्यमंत्री पर्यटक उद्योग संबंध योजना के माध्यम से राज्य में दी गई थी। टूरिज्म इंडस्ट्री को फिर से पहले जैसा बनने के लिए राज्य के विकास पर्यटक के लिए महत्वपूर्ण भूमिका है इसके लिए राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के माध्यम से इस योजना की शुरुआत की है।

इस योजना के माध्यम से लोगों को टूरिज्म के लिए बढ़ावा देना है जिसके माध्यम से लोग बैठक कर सके और अलग-अलग प्रकार की गतिविधियों को शुरू कर सके जिसके माध्यम से राज्य के पर्यटक उद्योग को बढ़ावा देना है इसके लिए Rajasthan sarkar के द्वारा इस योजना की अंतर्गत राज्य में पर्यटन उद्योग को सुधार किया जाएगा और लोगों को पहले से उनके जीवन शैली में काफी सुधार आएगी।

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024
Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024  क्या है

 

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024 : मुख्यमंत्री पर्यटन उद्योग सम्बल योजना एक महत्वपूर्ण पहल है जो भारत के पर्यटन उद्योग को विकसित करने के लिए आयोजित की गई है। यह योजना स्वतंत्र भारत सरकार के द्वारा शुरू की गई है और उसका उद्देश्य भारतीय पर्यटन उद्योग को सुदृढ़ करना है, इसे अधिक उत्कृष्ट बनाने के लिए सामर्थ्य बढ़ाना है।

इस योजना के तहत, विभिन्न पर्यटन क्षेत्रों में विकसित कार्यक्रमों की भविष्य की योजनाएँ बनाई गई हैं। यह उद्योग क्षेत्र के विभिन्न पहलुओं को समृद्ध करने के लिए उदाहरण है, जैसे कि होटलों, पर्यटन स्थलों, विशेष पैकेज टूर्स, विभिन्न आकर्षण, और अन्य संबंधित उद्योगों को अधिक अभियांत्रिकीपूर्ण बनाना।

इस योजना के तहत, पर्यटन क्षेत्र में समृद्धि के लिए विभिन्न कदम उठाए जा रहे हैं। यह सम्मेलन, कार्यशालाएं, अनुसंधान और विकास, शिक्षा और प्रशिक्षण कार्यक्रम, बाजार विस्तार, और उत्पादन को बढ़ावा देने जैसी गतिविधियों का संचालन करता है।

इस योजना के अंतर्गत, पर्यटन क्षेत्र को विकसित करने के लिए अन्य उपाय भी अपनाए गए हैं। इसमें विभिन्न राज्यों और क्षेत्रों के पर्यटन स्थलों के विकास, यातायात के सुधार, पर्यटन संबंधित उद्योगों के लिए वित्तीय सहायता, और उद्यमिता को प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न सरकारी योजनाएं शामिल हैं।.

 

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024  का उद्देश्य

 

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024 : कोविड-19 महामारी से प्रभावित पर्यटन उद्योग को पुनर्जीवित करना: यह योजना उन सभी पर्यटन व्यवसायों को वित्तीय सहायता प्रदान करती है जिन्हें महामारी के कारण नुकसान हुआ था। इसमें होटल, रेस्टोरेंट, टूर ऑपरेटर, गाइड और हस्तशिल्प कारीगर शामिल हैं।

रोजगार सृजन: योजना का लक्ष्य पर्यटन क्षेत्र में रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देना है। वित्तीय सहायता से व्यवसायों को अपने कर्मचारियों को बनाए रखने और नए कर्मचारियों को नियुक्त करने में मदद मिलेगी।

पर्यटन को बढ़ावा देना: योजना का उद्देश्य राजस्थान को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों के लिए एक आकर्षक गंतव्य के रूप में बढ़ावा देना है। इसमें विपणन गतिविधियों, पर्यटन अवसंरचना के विकास और पर्यटक सुविधाओं में सुधार को शामिल किया गया है।

पर्यटन उद्योग को मजबूत बनाना: योजना का लक्ष्य पर्यटन उद्योग को अधिक टिकाऊ और लचीला बनाना है। इसमें व्यवसायों को सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाने और अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने में मदद करना शामिल है।

 

Pradhanmantri suryoday Yojana 2024

 

Mukhymantri Paryatak Sambhal Yojana 2024 के लाभ

 

पर्यटन उद्यमियों को 25 लाख रुपये तक के ऋण पर 3 साल के लिए 1% अतिरिक्त ब्याज सब्सिडी मिलेगी।

वार्षिक ब्याज अनुदान: 9% प्रति वर्ष की दर से ब्याज अनुदान भी दिया जाएगा।

कर्मचारियों के वेतन पर सब्सिडी: 50 कर्मचारियों तक वाले पर्यटन प्रतिष्ठानों को प्रति कर्मचारी 2500 रुपये प्रति माह के हिसाब से 3 महीने का वेतन अनुदान मिलेगा।

विद्युत शुल्क में छूट: पर्यटन प्रतिष्ठानों को 50% तक की विद्युत शुल्क छूट मिलेगी।

पट्टा शुल्क में छूट: राज्य सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा संचालित होटलों, रेस्टोरेंट और बार को 50% तक की पट्टा शुल्क छूट दी जाएगी।

प्रॉपर्टी टैक्स में छूट: पर्यटन प्रतिष्ठानों को 50% तक की प्रॉपर्टी टैक्स छूट मिलेगी।

नवीनीकरण शुल्क में छूट: पर्यटन लाइसेंस और पंजीकरण के नवीनीकरण शुल्क में 50% की छूट दी जाएगी।

मार्केटिंग अनुदान: पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए मार्केटिंग गतिविधियों पर किए गए खर्च के लिए 50% तक की अनुदान दिया जाएगा।

प्रशिक्षण अनुदान: कर्मचारियों के प्रशिक्षण पर किए गए खर्च के लिए 50% तक की अनुदान दिया जाएगा।

ऋण सुविधा: पर्यटन उद्योग से जुड़े व्यक्तियों और संस्थानों को रियायती दरों पर ऋण उपलब्ध कराया जाएगा।

 

 

यहां कुछ अतिरिक्त जानकारी दी गई है:

 

मुख्यमंत्री पर्यटन उद्योग संबल योजना राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है।

इस योजना का उद्देश्य कोविड-19 महामारी से प्रभावित पर्यटन उद्योग को सहायता प्रदान करना है।

इस योजना के तहत, पर्यटन उद्योगों को विभिन्न प्रकार के लाभ प्रदान किए जाते हैं, जिनमें ब्याज सब्सिडी, वित्तीय सहायता और छूट शामिल हैं।

Leave a Comment